बारिश में कैसे बचें Skins infection से

बारिश में कैसे बचें Skins infection से

दोंस्तों, मानसून की शुरूआत हो चुकी है। बारिश चिलचिलाती गर्मी के बाद राहत देती है लेकिन  Skins infectionका खतरा भी रहता है और कई बार तो ऐसे भी जहरीलें कीट हमारी त्वाचा को नुकसान पहुंचाते है जिसकी वजह से हमें डॉक्टर के पास चक्कर काटने पड़ जाते है।

लेकिन अगर आप कुछ बातों को ध्यान रखते है तो Skins infectionसे बचाव कर सकते है।

  • हल्दी और नारियल तेल: हल्दी और नारियल तेल, दोंनों ही एंटी-फंगल, एंटी-सेप्टिक, एंटी-infectionजैसे गुणों से भरा है। Skins infectionहोने पर तुरंत एक चम्मच नारियल तेल में आधा चम्मच हल्दी पाउडर डालकर infectionवाली जगह पर लगा कर 2 मिनट तक रब करें और फिर लगा ही छोड़ दे। सूखने पर गुनगुने पानी से धो लें। यें प्रक्रिया दिन में दो बार करें, Skins infectionसे राहत मिलेगी।
  • एलोवेरा जेल और निंबू:  नींबू में मौजूद सिट्रीक एसिड किसी भी तरह की Skins infectionसे लड़ने में बहुत असरदार होता है। एलोवेरा जेल Skins infectionको तेजी से ठीक करके स्किन को हील करता है। जो आपकी स्किन को इचिंग, फंगल और किसी भी प्रकार के Skins infectionसे बचाने में कारगर नुस्ख़ा है। एक चम्मच एलोवेरा जेल में आधा चम्मच ताजे नींबू का रस मिलाकर infectionवाली जगह पर लगाएं और 2 से 3 मिनट मसाज कर के छोड़ दे। पेस्ट के सूखने के बाद गुनगुने पानी में एक चम्मच नींबू का रस डालकर infectionवाली जगह को धो लें। इस क्रिया को दिन में 2 बार करें। ऐसा करने से किसी भी तरह के Skins infectionसे छुटकारा मिल जाएगा।

ध्यान रखें:                                                         

  • बारिश के मौसम में त्वाचा में नमी की कमी आ जाती है जिसकी वजह है हमारा कम पानी पीना, तो रोजाना 4 से 5 लीटर पानी जरूर पियें।
  • जब भी कहीं बाहर से आयें तो हाथ-पैर की अच्छी तरह सफाई जरूर करें। ज्यादा दिनों तक स्टोर किये पानी का इस्तेमाल न करें। इससे Skins infectionहो सकता है, साथ इस पानी का घरेलू इस्तेमाल से पहले भी क्लोरीन की गोलियां डालें अथवा पानी को अच्छी तरह उबाल कर ही इस्तेमाल करें।
  • गीले कपड़े या गीले जूते-जुराब का इस्तेमाल न करें इससे Skins infectionहोने के चांसेस ज्यादा होते है।
  • नहानें के पानी में एंटी-सेप्टिक डालकर ही नहायें औऱ पैरों को जरूर सक्रब करें। इससे डेड स्किन निकल जाएगी और Skins infectionहोने का खतरा काफ़ी हद तक कम हो जाता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *